सवारी | Savaari

खाली टैक्सियों की तरह पल बीते चले जा रहे है
इस ही आस में के कोई सवारी मिल जाए
इस ही आस में के वो सवारी ठिकाना ही बता दे
मंज़िल हमें खुद ढूंढ लेंगे

कभी वो हमें दाएँ मुड़ ने को कहे
कभी हम बाएँ मुड़ जाए
कभी इस ही नोक-झोंक में 
हम मीटर पे चढ़ते नंबर भूल जाएं

आगे की सीट पे बैठे दोनो
पीछे की सीट पे उनका समान
खुली खिड़कियों से आए नई हवाएँ 
बिन पूछे हमारे रिश्ते का प्रमाण

जब बस थोड़ी दूर हो मंज़िल से 
तब वो कहे “बस इतनी जल्दी पोहोंच आएं?
वक़्त तो गुजरा ही नही,
चलो और कहीं घूम आएं”

वक्त तो असल बहोत गुज़रा होगा
लेकिन पलों से जी नही भरा होगा 
तो ले लेते हम एक और मोड़
करने अधूरी कहानी को पूरा

अधूरी कहानी होती हमारी
या बस किस्से कम होते
किसे पता और इस सफर में
कितने वो और कितने हम होते…

Khali taxiyon ki tarah pal beeten chale ja rahe hai
Is hi aas me ki koi savaari mil jaye
Is hi aas me ki wo savaari thikana hi batade
Manzil hum milke doondh lenge

Kabhi wo hume dayen mudne ko kahe
Kabhi hum bayen mud jaye
Kabhi is hi nok-jok me
hum meter pre chadhte number bhool jaye

Aage ki seat pe baithe dono
Piche ki seat pe unka saman
Khuli khidkiyon se aye nayi hawaien
Bin puche humare rishton ke pramaan

Jab hum bas thodi door ho manzil se
Tab wo kahe “bas itni jaldi pohoch aye?
Waqt toh guzara hi nahi
Chalo aur kahin gum aye”

Waqt toh asal bohot guzara hoga
Lekin palon se jee nahi bhara hoga 
Toh le lete humne ek aur mod
Karne adhuri kahani ko pura

Adhuri kahani hoti humari
Ya bas kisse kum hote
Kise pata aur is safar me
Kitne wo aur kitne hum hote…

One thought on “सवारी | Savaari

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s